ads

EMI Free Loan: ईएमआई की टेंशन से मुक्ति, सुविधा से हिसाब करें लोन रिपेमेंट

नई दिल्ली। जब आप ऋण लेते हैं तो आपको ईएमआई का भुगतान करना पड़ता है। यह मूल रूप से मूल भुगतान और मासिक ब्याज का कुल योग होता है। लेकिन ईएमआई फ्री लोन ( EMI Free Loan ) नए प्रकार का ऋण है। इसमें उधार लेने वालों को हर महीने मूल राशि का भुगतान करना आवश्यक नहीं है। मूलधन का भुगतान त्रैमासिक, अर्ध-वार्षिक, एकमुश्त या बुलेट भुगतान की एक श्रृंखला में लोग खुद कर सकते हैं। इसमें ध्यान देने की बात यह है कि ऋण लेने वाले व्यक्ति की न्यूनतम आय 30,000 रुपए प्रति माह होनी चाहिए। इएमआई फ्री लोन में व्यक्ति मासिक ईएमआई की टेंशन से पूरी तरह से फ्री होता है। यही वजह है कि ईएमआई लोन को लोगों के लिए काफी उपयोगी माना जाता है।

ईएमआई ( EMI ) की उन लोगों को दिक्कत ज्यादा होती है, जिनकी हर महीने इनकम नहीं होती है और एक साथ पैसे आते हैं। जैसे जो प्रोजेक्ट के आधार पर काम करते हैं। उन्हें किसी महीने पैसे नहीं मिलते हैं तो एक साथ मोटी रकम मिल जाती है। ऐस लोगों को लोन चुकाने में काफी मुश्किल होती है। ऐसे लोगों के लिए यह लोन काफी उपयोगी है। ऐसा इसलिए कि इसमें आसानी से अपने बजट के हिसाब से अमाउंट जमा करवा सकते हैं। टाइम को लेकर भी इसमें कोई बंदिश नहीं होती है।

Read More:

- Sovereign Gold Bond: सोने में निवेश करना चाहते हैं तो कल से 13 अगस्त तक है सुनहरा मौका

- इंडियन बैंक में है आपका अकाउंट तो 01 अक्टूबर से पहले कर लें ये काम, वरना बढ़ सकती हैं मुश्किलें

- PNB में खुलवाएं ये खाता, केवल 500 रुपए जमा कर पाएं मोटा मुनाफा

EMI Free Loan क्या है?

दईएमआई फ्री लोन में सबसे बड़ी राहत ये होती है कि उधार लेने वाला व्यक्ति मासिक ईएमआई के भुगतान का दबाव नहीं होता है और आप बजट के हिसाब से अमाउंट जमा करवा देते हैं। अगर आपके किसी महीने ज्यादा कमाई हुई तो आप उस महीने ज्यादा अमाउंट भी जमा करवा सकते हैं। इसमें अपने हिसाब से ईएमआई तय हो जाती है। यह ठीक वैसे ही जैसे आपने किसी दोस्त से पैसे लिए और आपके पास जितने-जितने पैसे आते हैं और आप उसे चुका देते हैं। इसमें ग्राहक लोन की मूल राशि को त्रैमासिक, छमाही या अपने कैश फ्लो के हिसाब से टुकड़ों में जमा करा सकते हैं।

EMI फ्री लोन के फायदे

ग्राहक को हर माह केवल इंटरेस्ट अमाउंट और हर छह महीने पर प्रिंसिपल अमाउंट का भुगतान करना होता है। EMI-फ्री लोन को लेने के बाद आप शुरुआती 6 महीनों में सिर्फ EMI के ब्याज हिस्से को चुका सकते हैं। जब आपको ठीक लगता है तो आप मूलधन के 10 फीसदी का भुगतान कर सकते हैं, जिसे बुलेट रीपेमेंट कहते हैं। यह लोन जिन लोगों को मिलता है, उन्हें आसानी से मिल जाता है और कम समय में अकाउंट में पैसे क्रेडिट हो जाते हैं।

आवेदन जमा करने और आवश्यक सत्यापन पूर्ण होने के बाद ये ऋण 24 घंटों के भीतर वितरित किए जाते हैं। प्रक्रिया कागज रहित और स्वचालित है जिसमें कोई छिपा हुआ शुल्क या पूर्व भुगतान शुल्क नहीं है। इस प्रकार के ऋण कुछ तकनीक-संचालित उधार प्लेटफॉर्म पर उपलब्ध हैं जहां उधारकर्ता के पास मूल भुगतान को बढ़ाने या घटाने का विकल्प होता है। इसमें कोई भी भुगतान जो ब्याज के अतिरिक्त किया जाता है, बकाया ऋण को नीचे लाता है।

Read More:

- EPFO: 6 करोड़ PF खाताधारक 01 सितंबर से पहले कर लें ये काम, वरना नहीं आएगा अकाउंट में पैसा

- 500 रुपए में खुलवाएं डाकघर बचत खाता, मिलेगा हाई रिटर्न और 7000 की टैक्स छूट

- Post Office की ये योजना पैसा कर देती है डबल, 1000 रुपए से कर सकते हैं निवेश की शुरुआत



Source EMI Free Loan: ईएमआई की टेंशन से मुक्ति, सुविधा से हिसाब करें लोन रिपेमेंट
https://ift.tt/3AhQuhc

Post a Comment

0 Comments