ads

रियल एस्टेट में लौटी रिकवरी, तीन महीनों में घरों की बिक्री में 12 फीसदी का इजाफा

नई दिल्ली। पिछली तिमाही की तुलना में जनवरी-मार्च के दौरान प्रॉपर्टी की मांग में तेजी आई और हाउसिंग सेल्स में 12 फीसदी की बढ़ोतरी हुई। यह बात प्रॉपटाइगर डॉट कॉम की एक रिपोर्ट में सामने आई। रिपोर्ट में कहा गया है कि केंद्र सरकार के साथ-साथ कई राज्य सरकारों द्वारा खरीदार के विश्वास को बढ़ाने के लिए किए गए विभिन्न उपायों ने सकारात्मक परिणाम दिखाने शुरू कर दिए हैं, जिससे भारत के आठ प्रमुख आवासीय बाजारों में घर की बिक्री बढ़ गई है। 'रियल इनसाइट-क्यू1सीवाई 21' शीर्षक रिपोर्ट के अनुसार, डेवलपर्स ने प्राथमिक बाजार में 2021 की पहली तिमाही में कुल 66,176 घर बेचे। क्यू1सीवाई 20 की तुलना में, हालांकि विश्लेषण में शामिल बाजारों में घर की बिक्री में 5 प्रतिशत की गिरावट देखी गई।

यह भी पढ़ेंः- Petrol Diesel Price Today: 10 दिन से दिल्ली और एनसीआर के शहरों में नहीं हुआ बदलाव, आज इतने चुकाने होंगे दाम

पटरी पर लौट रहा है कारोबार
प्रॉपटाइगर डॉट कॉम के ग्रुप सीईओ ध्रुव अग्रवाल ने कहा कि जैसा कि अर्थव्यवस्था धीरे-धीरे पटरी पर आ रही है और वैश्विक रेटिंग एजेंसियों और थिंक-टैंकों ने 2021 और 2022 के लिए भारत के विकास के पूवार्नुमानों को प्रतिबिंबित किया है, देश में आवासीय अचल संपत्ति बाजार भी केंद्र और राज्य सरकारें, आरबीआई और संपूर्ण बैंकिंग प्रणाली द्वारा किए गए विभिन्न उपायों के पीछे एक सकारात्मक गति देख रहा है। उन्होंने कहा कि आपूर्ति संख्या में वृद्धि के माध्यम से पहली तिमाही में यह सकारात्मक बदलाव दिखाई दे रहा है, जो एक संकेत है कि डेवलपर्स तरलता समर्थन और खरीदार की भावना के संबंध में अब अधिक सहज हैं।

जारी रह सकती है रिकवरी
अग्रवाल ने कहा कि मांग के आधार पर मेट्रिक्स भी विभिन्न उद्योगों में फिर से खुलने वाले जॉब मार्केट के साथ काफी हद तक स्थिर रहे हैं, जिससे लोगों को प्रॉपर्टी मार्केट का फायदा उठाने का भरोसा मिला है जो सालों बाद घर खरीदारों के लिए सबसे सस्ती है। उन्होंने कहा, "हालांकि कुछ बाजारों में कोविड संक्रमण में हालिया उछाल एक चिंता का विषय है, फिर भी हम उम्मीद करते हैं कि आवासीय बाजार में रिकवरी जारी रहेगी।



Source रियल एस्टेट में लौटी रिकवरी, तीन महीनों में घरों की बिक्री में 12 फीसदी का इजाफा
https://ift.tt/3uArkYh

Post a comment

0 Comments